Category: Alone Luck

Do you know what is – Alone Luck

यथा हि एकेन चक्रेण न रथस्य गतिर्भवेत्।
एवं पुरूषकारेण विना दैवं न सिध्यति॥

भावार्थ:
जिस प्रकार एक पहिये वाले रथ की गति संभव नहीं है, उसी प्रकार पुरुषार्थ के बिना केवल भाग्य से कार्य सिद्ध नहीं होते हैं।

English Translation:
Just like a chariot cannot run with only a single wheel, similarly luck alone cannot complete a task without efforts.