बृहस्पति की पूजा से मिलते है मनचाहे वरदान। जाने कैसे।

Originally posted on DharmaShastra:
प्राचीन हिंदू साहित्य में बृहस्पति एक वैदिक युग ऋषि है जो देवताओं को सलाह देते है, जबकि कुछ मध्ययुगीन ग्रंथों में यह सबसे बड़ा ग्रह बृहस्पति को संदर्भित करता है। प्राचीन ग्रंथो में उनके ज्ञान और चरित्र को सम्मानित किया गया है, और उन्हें सभी देवों द्वारा गुरु (शिक्षक) माना जाता…

आरती श्री सूर्य भगवान की।

Originally posted on DharmaShastra:
आरती श्री सूर्य भगवान की। सूर्यदेव साक्षात् इस ब्रह्मांड में विद्यमान है। रविवार भगवान सूर्य का दिन माना जाता है और इस दिन सूर्य देव की उपासना करने से बहुत अच्छे परिणाम मिलते है। भगवान सूर्य को अर्घ्य देने का विशेष महत्व है। भगवान सूर्य कि कृपा पाने के लिए तांबे…

कौन था ​महापंडित लंकाधीश रावण तथा किन कारणों से हुई उस विद्वान की मृत्यु।

Originally posted on DharmaShastra:
रावण हिंदू पौराणिक कथाओं में प्रमुख राक्षसों में से एक है जिन्होंने लोकप्रिय अवतार राम के खिलाफ लड़ाई लड़ी। रावण प्रसिद्ध हिंदू महाकाव्य, रामायण में एक प्रमुख भूमिका निभाते हैं। रावण एक कुशल राजनीतिज्ञ, सेनापति और वास्तुकला का कुशाग्र होने के साथ-साथ तत्व ज्ञानी तथा बहु-विद्याओं के जानकार थे उन्हें मायावी…

क्या आप जानते है शनिदेव पर तेल क्यों चढ़ाया जाता है|

Originally posted on DharmaShastra:
नमस्कार दोस्तों आज है शनिवार महाबली शनि देव का बार आप सभी जानते ही हो के भगवन शिव, शनि देव के गुरु हे और शनिदेव को न्याय करने और दण्डित करने की शक्ति भगवन महादेव द्वारा ही प्राप्त हुई थी। शनि देव रंग में काले हैं और वह छाया देवी और…

भगवान परशुराम -विष्णु का छठा अवतार।

Originally posted on DharmaShastra:
परशुराम शिव के भक्त थे और उसे भगवान शिव से एक वरदान के रूप में एक परशु मिला था , इस प्रकार परशुराम नाम दिया गया था। शिव ने उन्हें युद्ध कौशल भी सिखाया था । एक बच्चे के रूप में परशुराम एक उत्सुक शिक्षार्थी थे और उन्होंने हमेशा अपने पिता…

ऋषि विश्वामित्र क्षत्रिय से ब्राह्मण कैसे बने।

Originally posted on DharmaShastra:
महर्षि विश्वामित्र इतिहास के सबसे श्रेष्ठ ऋषियों में से एक जो कि जन्म से एक ब्राह्मण नहीं थे लेकिन अपने तप और ज्ञान के कारण इन्हें महर्षि की उपाधि मिली थी। आइये दोस्तों आज हम मिलकर पड़े महर्षि विश्वामित्र की रोमांचिक कहानी। ऋषि विश्वामित्र एक बेहद प्रबुद्ध, ऋषि थे। कौशिकी नदी के…

हिंगलाज माता मंदिर – 51 शक्तिपीठों में से एक जो स्थित है बलूचिस्तान, पाकिस्तान में।

Originally posted on DharmaShastra:
पाकिस्तान के बलूचिस्तान के रेगिस्तान में कराची शहर के लगभग दो सौ किलोमीटर पश्चिम में हिंदू देवी हिंगलाज का मंदिर हैं। हिंगलाज शक्तिपीठ 51 शक्तिपीठों में से एक है। हिन्दू धर्म के पुराणों के अनुसार जहाँ-जहाँ सती के अंग के टुकड़े, धारण किए वस्त्र या आभूषण गिरे, वहाँ-वहाँ शक्तिपीठ अस्तित्व में…

दुन‍िया में इकलौता मौत के देवता का मंदिर जहां अंदर जाने से डरते हैं लोग।

Originally posted on DharmaShastra:
चौरासी मंदिर  भर्मौर शहर के केंद्र में स्थित है और 1400 साल पहले बनाए गए मंदिरों के कारण इसमें अत्यधिक धार्मिक महत्व है। यम देवता को समर्पित यह मंदिर हिमाचल के चम्बा जिले में भरमौर नामक स्थान पर स्तिथ है। यह जगह दिल्ली से करीब 500 किलोमीटर दूर स्तिथ है। यह…

महाकाली की पूजा करने से मिलता है मनचाहा वरदान।

Originally posted on DharmaShastra:
दुर्गा की दस महाविद्याओं में से एक हैं महाकाली। जिनके काले और डरावने रूप की उत्पति राक्षसों का नाश करने के लिए हुई थी। प्राचीन काल की बात है,सम्पूर्ण सृष्टी के जलमगन होने के बाद भगवान विष्णु शेषनाग की शय्या पर योगनिद्रा लीन में थे। तभी उसी समय अचानक, भगवान विष्णु…

धन प्राप्ति के इस अचूक मंत्र से होगी धन की वर्षा।

Originally posted on DharmaShastra:
लक्ष्मी बीज मंत्र ॐ ह्रीं श्रीं लक्ष्मीभयो नमः॥ महालक्ष्मी मंत्र ॐ श्रीं ह्रीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद प्रसीद ॐ श्रीं ह्रीं श्रीं महालक्ष्मयै नम:॥ लक्ष्मी गायत्री मंत्र ॐ श्री महालक्ष्म्यै च विद्महे विष्णु पत्न्यै च धीमहि तन्नो लक्ष्मी प्रचोदयात् ॐ॥

भारत में उत्तरांचल में स्थित बद्रीनाथ मंदिर सबसे पवित्र स्थानों में से एक है। बद्रीनाथ तीर्थयात्रा के बारे में पढ़ें।

Originally posted on DharmaShastra:
बद्रीनाथ या बद्रीनारायण मंदिर एक हिंदू मंदिर है जो विष्णु को समर्पित है जो भारत के उत्तराखंड में बद्रीनाथ शहर में स्थित है। मंदिर और शहर चार धाम और छोटा चार धाम तीर्थ स्थलों में से एक है। यह मंदिर विष्णु को समर्पित है। हिमालयी क्षेत्र में अत्यधिक मौसम की स्थिति…

आखिर क्यों शिवजी को कहते हैं भोलेनाथ? जानें ये विचित्र रहस्य।

Originally posted on DharmaShastra:
भोलेनाथ – भगवान शिव 108 नामों में से एक। भोलेनाथ : शब्द ‘भोला’ (हिंदी) का अर्थ है – मासूम, सरल। भगवान शिव को ‘भोलेनाथ ‘ कहा जाता है क्योंकि वह आसानी से प्रसन्न हो जाते है और बिना किसी जटिल अनुष्ठान के अपने भक्तों पर अपने आशीर्वाद की कृपा करते है।…

जानिए भूतिया संसार के अनसुलझे रहस्य।

Originally posted on DharmaShastra:
लोककथाओं में, एक भूत आत्मा या मृत व्यक्ति या जानवर की आत्मा है जो जीवन में प्रकट हो सकता है। भूतों का विवरण अदृश्य उपस्थिति से पारदर्शी या मुश्किल से दिखने वाले कृप्या आकृतियों से यथार्थवादी दृष्टि से व्यापक रूप से भिन्न होता है। किसी मृत व्यक्ति की भावना से संपर्क…

श्मशान घाट का हिंदुत्व में क्या महत्व है।

Originally posted on DharmaShastra:
श्मशान  एक हिंदू श्मशान भूमि है, जहां एक मृत पर मृत शरीर जला दिया जाता है। यह आमतौर पर गांव या शहर के बाहरी इलाके में पानी या नदी के नजदीक स्थित होता है; क्योंकि वे आमतौर पर घाटों के नजदीक स्थित होते हैं, उन्हें  श्मशान घाट भी कहा जाता है। हिंदू संस्कारों…